गुलज़ार: ये कैसा इश्क़ है उर्दू ज़ुबां का

images[6]

 

 

 

 

 

 

 

 

 


ये कैसा इश्क़ है उर्दू ज़ुबां का


आँखों को वीसा नहीं लगता, सपनों की सरहद कोई नहीं

 

Comments

comments